Shaam Ke Saaye Lyrics From Talvar [Fassarar Turanci]

Shaam Ke Saaye Lyrics: Arijit Singh ne ya rera wannan wakar daga fim din Bollywood 'Talvar'. Gulzar ne ya ba da waƙar waƙar kuma Vishal Bhardwaj ne ya shirya waƙar. An shirya wannan fim…

Shaam Ke Saye Lyrics

Shaam Ke Saye Lyrics: Arijit Singh ne ya rera wannan waƙar daga cikin fim ɗin Bollywood mai suna 'Talvar'. Gulzar ne ya ba da waƙar waƙar kuma Vishal Bhardwaj ne ya shirya waƙar. Meghna Gulzar ce ta jagoranci wannan fim.

Bidiyon Kiɗa Yana Nuna Irrfan Khan

artist: Arijit Singh ji

Lyrics: Gulzar

Mawallafi: Vishal Bhardwaj

Fim/Album: Talvar

Tsawon lokaci: 4:42

Sanarwa: 2015

Tag: T-Series

Shaam Ke Saye Lyrics

दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
जैसे जंगल में शाम के साए
जैसे जंगल में शाम के साए

आंसूंजो रुकने लगे
आँखों मैं चुभने लगे हैं
नया दर्द दो कोई तो रो लें

दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
जैसे जंगल में शाम के साए
जैसे जंगल में शाम के साए

अजनबी अजनबी सा लगता है
कोई आंसू चला आये तो
अजनबी अजनबी सा लगता है
कोई आंसू चला आये

खुश्क खुश्क रहती हैं आँखें
नया दर्द दो कोई तो रो लें

दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
जैसे जंगल में शाम के साए
जैसे जंगल में शाम के साए

जाते जाते सहम के रुक जाए
मुड़ के उदास राहों पे
कैसे बुझते हुए उजालों पे
दूर धुल धुल उड़ती है

Screenshot of Shaam Ke Saaye Lyrics

Shaam Ke Saye Lyrics English Translation

दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
Irin wannan shi ne bakin ciki a cikin zuciya
दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
Irin wannan shi ne bakin ciki a cikin zuciya
जैसे जंगल में शाम के साए
kamar inuwar maraice a cikin dajin
जैसे जंगल में शाम के साए
kamar inuwar maraice a cikin dajin
आंसूंजो रुकने लगे
hawayen da suka tsaya
आँखों मैं चुभने लगे हैं
idanuwana sun fara rawa
नया दर्द दो कोई तो रो लें
ba sabon zafi wani kuka
दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
Irin wannan shi ne bakin ciki a cikin zuciya
जैसे जंगल में शाम के साए
kamar inuwar maraice a cikin dajin
जैसे जंगल में शाम के साए
kamar inuwar maraice a cikin dajin
अजनबी अजनबी सा लगता है
baƙo kamar baƙo
कोई आंसू चला आये तो
idan wani hawaye ya zo
अजनबी अजनबी सा लगता है
baƙo kamar baƙo
कोई आंसू चला आये
hawaye ba zubowa ba
खुश्क खुश्क रहती हैं आँखें
idanu suna murna
नया दर्द दो कोई तो रो लें
ba sabon zafi wani kuka
दिल में ऐसे ठहर गए हैं ग़म
Irin wannan shi ne bakin ciki a cikin zuciya
जैसे जंगल में शाम के साए
kamar inuwar maraice a cikin dajin
जैसे जंगल में शाम के साए
kamar inuwar maraice a cikin dajin
जाते जाते सहम के रुक जाए
ka tsaya a tsorace kana tafiya
मुड़ के उदास राहों पे
karkace akan hanyoyin bakin ciki
कैसे बुझते हुए उजालों पे
yaya akan hasken da aka kashe
दूर धुल धुल उड़ती है
kura tayi nisa

Leave a Comment